विश्व पर्यावरण दिवस पर निबंध |Essay on World Environment Day

हिंदी, हिंदी निबंध

पर्यावरण की सुरक्षा और संरक्षण हेतु विश्व भर में विश्वपर्यावरण दिवस मनाया जाता है, संयुक्त राष्ट्र संघ ने सन् 1972 में पहली बार इस दिवस को मनाने की घोषणा की थी। विश्व पर्यावरण दिवस पहली बार 5 जून 1974 को मनाया गया था, जिसके बाद से हर वर्ष 5 जून को विश्व भर के लगभग हर देशों में यह दिवस मनाया जाता है।

इतिहास

पर्यावरण स्वच्छता, जलवायु, वृक्ष, प्रदूषण आदि चीजों को मिलाकर बनता है और यह हमारे दैनिक जीवन से संबंध रखता है और हमारे जीवन को प्रभावित भी करता है। सन् 1972 में संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा पृथ्वी से सभी पर्यावरण संबंधी समस्याओं को समाप्त करने और पर्यावरण को सुरक्षित बनाने के लिए महासभा का आयोजन किया गया था। जिसमें विश्व पर्यावरण दिवस मनाने का सुझाव दिया गया, इसके बाद 5 जून 1974 से इसे मनाना शुरू किया गया। जिसके बाद से इसका आयोजन हर वर्ष अलग-अलग देशों में होता है। इस आयोजन में हर वर्ष 143 से ज्यादा देश सम्मिलित होते हैं, जिसमें दुनिया भर के बहुत से सरकारी और सामाजिक व्यक्ति पर्यावरण की सुरक्षा और समस्या जैसे विषयों पर अपने विचारों को रखते हैं।

उद्देश्य और महत्व

पर्यावरण को स्वच्छ रखने के रास्ते में खड़ी चुनौतियों को हल करने के लिए हर वर्ष यह दिवस मनाया जाता है और विश्व भर के लोगों में पर्यावरण के प्रति जागरूकता लाने के लिए संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा आयोजित किए जाने वाला विश्व पर्यावरण दिवस दुनिया का सबसे बड़ा वार्षिक आयोजन होता है। विश्व पर्यावरण दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य हमारी प्रकृति को स्वच्छ रखने के लिए जागरूकता बढ़ाने और हर रोज बढ़ रहे पर्यावरण असंतुलन को कम करना है। पर्यावरण और मानव जीवन एक दूसरे पर निर्भर करते हैं जिस वजह से पर्यावरण में असंतुलन हमारे दैनिक जीवन को सीधा प्रभावित करता है, जिससे इस दिन का महत्व हमारे जीवन में काफी ज्यादा बढ़ जाता है।

पर्यावरण में होने वाली समस्याएं जैसे जलवायु परिवर्तन और प्रदूषण मनुष्यों के द्वारा किए गए कार्यों की वजह से भी उत्पन्न हो रही हैं, इनके बारे में विचार करना पर्यावरण के संरक्षण और सुरक्षा के लिए काफी ज्यादा महत्वपूर्ण है। मनुष्य द्वारा किए गए कार्य किसी न किसी रूप में पर्यावरण को प्रभावित जरूर करते हैं, इसलिए पर्यावरण को स्वच्छ व संरक्षित रखने के लिए हमें अपने कार्यों पर पुनर्विचार करने की आवश्यकता है।

आयोजन

विश्व के लगभग हर देशों में पर्यावरण के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए विश्व पर्यावरण दिवस का आयोजन हर वर्ष अलग-अलग देशों में किया जाता है, जिसमें हर वर्ष पर्यावरण के संरक्षण और सुरक्षा से जुड़े अलग-अलग विषय रखे जाते हैं और उन पर विश्व भर के सामाजिक, सरकारी और व्यावसायिक व्यक्ति अपने विचार रखते हैं।

भारत में प्रथम आयोजन (2011)

2011 में पहली बार विश्व पर्यावरण दिवस का आयोजन भारत के दिल्ली शहर में हुआ, जिसमें इसका विषय वन: आपकी सेवा में प्रकृति रखा गया। इस सम्मेलन में वनों को संरक्षित रखने के विषय पर चर्चा हुई, जिसके बाद भारत समेत कई देशों में वनों को संरक्षित करने के लिए कई कदम उठाए गए।

विश्व पर्यावरण दिवस 2018

वर्ष 2018 में विश्व पर्यावरण दिवस का आयोजन भारत के नई दिल्ली शहर में हुआ था, जिसमें इसका विषय प्लास्टिक प्रदूषण को कम करना रखा गया था, जिसमें विश्व भर के बहुत से सामाजिक और जागरूक व्यक्तियों ने हिस्सा लिया था और अपने विचार रखे थे। जिसके बाद भारत के बहुत से शहरों और राज्यों में प्लास्टिक के उपयोग को बैन कर दिया गया था, अभी भी देश के कई हिस्सों में प्लास्टिक उपयोग करने पर पाबंदी है।

यूएनईपी मुख्यालय

हर वर्ष होने वाला विश्व पर्यावरण दिवस के कार्यक्रम का संचालन संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनईपी) के द्वारा किया जाता है, जिसका मुख्यालय केन्या के नैरोबी में स्थित है। विश्व पर्यावरण दिवस हर वर्ष 5 जून को विश्व के लगभग 100 से अधिक देशों में मनाया जाता है। हर वर्ष आयोजित होने वाले इस सम्मेलन का उद्देश्य पर्यावरण से जुड़े विश्व भर के लोगों को एक साथ लाकर पर्यावरण में हो रहे जलवायु परिवर्तन जैसी समस्याओं का मुकाबला करने के लिए ठोस कदम उठाने पर विचार करना होता है।

पर्यावरण की समस्याएं

पर्यावरण को सुरक्षित और संरक्षित रखने के लिए विश्व पर्यावरण दिवस का आयोजन होना काफी ज्यादा महत्वपूर्ण है। आज के समय में पर्यावरण के प्रदूषित होने की वजह से अनेकों समस्याएं उत्पन्न हो रही है जो मानव जीवन पर काफी बुरा असर डाल रही हैं। पर्यावरण में आज के समय में अनेकों समस्या उत्पन्न हो रही है वनों का कटना इसका एक मुख्य कारण है जिससे हमारा पर्यावरण प्रदूषित हो रहा है। इसकी वजह से पूरे विश्व में ग्लोबल वार्मिंग की समस्या भी बनी हुई है ऐसे में विश्व भर के लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करना अति आवश्यक है।

विश्व पर्यावरण दिवस पर हम क्या करें

विश्व पर्यावरण दिवस के दिन हम सभी को अपने कार्यों से मुक्त होकर पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूकता बढ़ाने वाले अभियानों से जुड़ना चाहिए। हम सभी को बंजर भूमि में छोटे-छोटे पौधे लगाने चाहिए, जिससे वह कुछ सालों में भूमि क्षेत्र में विकसित हो सकें। स्कूलों में शिक्षक छात्रों को पेड़ लगाने के लिए प्रेरित करते हैं,इस दिन हर किसी के द्वारा किया गया एक छोटा प्रयास पर्यावरण पर बड़ा असर डाल सकता है।

Leave a Reply

*

code