Happiness

जीवन में हमेशा खुश रहने के लिए आखिर कौन से हैं कुछ महत्वपूर्ण मूलमंत्र ? जानें संक्षिप्त में !

प्रेरक प्रसंग, हिंदी

हर मनुष्य के जीवन में सुख और दुख दोनों आते हैं लेकिन हम अलग-अलग परिस्थितियों में किस प्रकार से उनका सामना करते हैं वह हमारे ऊपर निर्भर करता है। हर व्यक्ति जीवन में खुश रहना चाहता है, लेकिन परिस्थितियां उसे ऐसा करने से रोकती हैं, लेकिन जरूरी यह होता है कि हम उन परिस्थितियों का सामना किस तरीके से करते हैं। आज हम बात करने वाले हैं कुछ मूलमंत्रों की कि आखिर कैसे हम जीवन में खुश रह सकते हैं।

जिंदगी में उस सफलता का कोई अर्थ नहीं है जिसमें प्रसन्नता ना हो, हर व्यक्ति के जीवन में सुख और दुख की घड़ियां आतीं हैं लेकिन व्यक्ति अपने जीवन को किस तरह से गुजारना चाहता है यह उसके ऊपर निर्भर करता है कि वह व्यक्ति जीवन को प्रसन्नता के साथ व्यतीत करना चाहता है या दुख के साथ। जीवन में खुशी केवल धन और दौलत से नहीं आती है, इसलिए सफलता वही अच्छी होती है जिसमें प्रसन्नता भी हो।

हमें एक अच्छा जीवन व्यतीत करने के लिए प्रसन्न रहना बहुत जरूरी होता है। कहा गया है कि प्रसन्न रहने वाला व्यक्ति कोई भी बड़ा सा बड़ा कार्य कर सकता है। और ऐसे व्यक्ति जीवन में बहुत ज्यादा सफल भी होते हैं तथा विपरीत परिस्थितियां आने पर भी वह उन परिस्थितियों का धैर्य के साथ मुकाबला करते हैं। प्रसन्न होने के लिए हमें अवसरों का इंतजार नहीं करना चाहिए बल्कि हमें हर छोटी-छोटी बातों में खुशी ढूंढ लेनी चाहिए।

जीवन में हम छोटी-छोटी चीजें करके खुश रह सकते हैं और दूसरों को भी खुश रख सकते हैं, जीवन में खुश रहने के लिए हमें निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए-

हमेशा मुस्कुराते रहना

जीवन में खुश रहने के लिए मुस्कुराना बहुत जरूरी होता है। कहा जाता है कि अगर आप विपरीत परिस्थितियों का सामना भी मुस्कुराहट के साथ करेंगे तो मुश्किल परिस्थितियां भी हमें काफी ज्यादा आसान लगने लगती हैं। इसलिए हमें जीवन में हमेशा अपने चेहरे पर मुस्कान बनाए रखने का प्रयास करना चाहिए परिस्थितियां चाहे जैसी भी हों।

दूसरों से प्रेरणा लेना

जीवन में खुश रहने का एक मंत्र दूसरों से प्रेरणा लेना भी है, जब परिस्थितियां हमारे विपरीत हों तो हमें उन परिस्थितियों से गुजर चुके किसी व्यक्ति से प्रेरणा जरूर लेनी चाहिए, जिससे हमें परिस्थितियों का सामना करने का साहस मिलता है। हमें ज्यादा से ज्यादा किताबें पढ़ने की आदत डालनी चाहिए। हर इंसान के अंदर कुछ बुराइयां होती है कोई अच्छाइयां होती हैं जब हम किसी से मिलते हैं जो हमें उसकी अच्छाइयों से प्रेरणा लेने का प्रयास करना चाहिए।

सकारात्मक रहना

जीवन में खुश रहने के लिए सकारात्मकता का होना बहुत ही जरूरी है। हमारे अंदर सकारात्मकता इस बात पर निर्भर करती है कि हम किन लोगों के साथ रहते हैं इसलिए हमें अधिक से अधिक सकारात्मक लोगों के साथ रहना चाहिए। अगर आप नकारात्मक लोगों के साथ हैं भीं तो आपको प्रयास करना चाहिए कि उनकी सोच आपके ऊपर हावी ना हो सके।

विश्वास बनाए रखना

आज की इस झूठी दुनिया में किसी पर विश्वास बनाए रखना काफी मुश्किल है, लेकिन फिर भी हमें विश्वास को मजबूत करके चलना चाहिए। हमें दूसरों का विश्वास तोड़ने की बजाय उनका विश्वास जीतने का प्रयास करना चाहिए।  जैसा कहा गया है कि दुनिया विश्वास पर टिकी हुई है इसलिए हमें इस विश्वास को टूटने से बचाना चाहिए। विश्वास की शुरुआत हमें आत्मविश्वास से करनी चाहिए क्योंकि जब तक हमें खुद पर विश्वास नहीं होगा, तब तक हम दूसरों पर विश्वास नहीं कर सकते हैं। और विश्वास भी जीवन में ख़ुशी और सकारात्मकता लेकर आता है। 

जीवन में प्यार का होना

जिस तरह जीवन में खुश रहने के लिए विश्वास की जरूरत होती है ठीक उसी प्रकार से जीवन में प्यार का होना भी आवश्यक है। जीवन में स्वस्थ रहने के लिए वैज्ञानिकों ने यह सिद्ध भी किया है कि प्यार आपको जीने की ताकत देता है। आप किसी को जितना प्यार देंगे बदले में आपको उससे उतना ही प्यार मिलेगा, इसलिए जीवन में खुश रहने के लिए प्यार से बढ़कर कोई और दवा नहीं हो सकती है।

लोगों के प्रति उदार रहना

जीवन में खुश रहने के लिए दयालु होना भी काफी आवश्यक है। दूसरों के प्रति उदार होने से पहले आपको अपने प्रति उदार होना पड़ेगा, अगर आप खुद के प्रति उदार हैं तो आपकी सोच भी सकारात्मक हो जाएगी। और फिर आप दूसरों के प्रति भी उदार भाव रख पाएंगे, जिससे आपको काफी खुशी मिलने वाली है और आप एक बेहद सकारात्मक और खुशहाल जीवन व्यतीत कर सकतें हैं।

अपने बड़ों और छोटों को साथ लेकर चलना

मनुष्य के जीवन में ऐसी बहुत सी घड़ियां आती हैं जब उसे बड़ों के आशीर्वाद की जरूरत होती है और बहुत से ऐसे भी परिस्थितियां आती हैं जब छोटों का प्यार भी जरूरी होता है। इन दोनों के होने से जिंदगी में व्यक्ति को कभी निराशा नहीं होती है बल्कि एक प्रकार का आत्मीय बल मिलता है जिससे व्यक्ति का आत्मविश्वास हमेशा बना रहता है।

दूसरों की प्रगति देखकर जलन और ईर्ष्या का भाव ना लाना

आज के समय में व्यक्ति अपने दुख से इतना दुखी नहीं होता है जितना कि दूसरों को सुखी देखकर होता है। ये जलन की भावना अत्यंत हानिकारक है जो कि मानसिक शांति और खुशहाली को बाधित करता है। अगर दूसरों को खुश और प्रगति करता देखकर कोई भी व्यक्ति उससे प्रेरणा लेता है और सीखता तो ये आदत उसके जीवन में सकारात्मक बदलाव ला सकती है। और इसी आदत से व्यक्ति एक खुशहाल जीवन की तरफ अग्रसर होता है। 

अच्छी किताबें पढ़ना और अच्छे लोगों की संगति में रहना

अच्छी किताबों को पढ़कर व्यक्ति अत्यंत सकारात्मक महसूस करता है और आंतरिक खुशी की अनुभूति करता है, ठीक उसी तरह अच्छे लोगों की संगति में रहने से खुशहाल जीवन जीने की प्रेरणा और सकारात्मक दृष्टिकोण मिलता है। इसीलिए इन आदतों को आत्मसात करना बेहद आवश्यक है।

अतः व्यक्ति को अपने जीवन में हमेशा खुश रहने के लिए इन मूल मंत्रों का ध्यान रखना चाहिए और पालन भी करना चाहिए, क्योंकि जीवन में व्यक्ति खुशियों को पैसों से खरीद नहीं  सकता, इसलिए उन्हें सजोंकर रखना जरूरी होता है।

Leave a Reply

*

code