Corona

कोरोना महामारी ने क्या दी सबसे बड़ी सीख?

हिंदी, हिंदी निबंध

बीते एक साल से पूरी दुनिया कोरोनावायरस से ग्रसित है और इसमें बहुत से लोगों ने अपनी जान भी गंवा दी है। एक वायरस ने परमाणु हथियारों से लैस इस दुनिया में खलबली मचा दी, और बहुत से देशों में आर्थिक संकट की स्थिति आ गई। हालांकि इस वायरस की वजह से लोगों की आवाजाही को रोकने के लिए सख्त पाबंदियां भी लगानी पड़ी, जिनसे कुछ ऐसे भी परिणाम सामने आए, जिसकी किसी को उम्मीद नहीं थी।

पूरे विश्व में फैले इस कोरोनावायरस की वजह से हर किसी के जीवन में कठिनाइयां हुईं, पर कोरोनावायरस की वजह से बहुत सी ऐसी चीजें भी देखने को मिली,जिससे हर किसी को सीख लेने की जरूरत है। अगर देखा जाए तो पिछले कुछ सालों से दुनिया भर के बड़े-बड़े देश, जिस तरह से अपनी जरूरतों के लिए प्रकृति के साथ छेड़छाड़ कर रहे हैं, ऐसे में कह सकते हैं कि प्रकृति भी मनुष्य जाति को सजा दे रही है।

बिगड़ रहा है प्रकृति का संतुलन

आज के समय में हर मनुष्य विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में इतना आगे बढ़ चुका है कि उसे और किसी बात की चिंता ही नहीं। अगर हम बात करें प्रकृति के साथ हो रही छेड़छाड़ की, जिसकी सजा प्रकृति हमें दे रही है तो आज के समय में पूरे विश्व भर में जिस प्रकार से पेड़ पौधों को काटा जा रहा है, जिसकी वजह से वातावरण का संतुलन बिगड़ रहा है और लोगों को सांस लेने में दिक्कतें हो रही हैं, कोरोना काल के इस समय में ऑक्सीजन की कमी लोगों की मौतें हो रही हैं।

कोरोना से सीख लेने की जरूरत

विश्व भर में फैली इस महामारी से जो स्थिति उत्पन्न हुई है, ऐसी दशा हम सभी ने अपने जीवनकाल में पहली बार देखी है। किसी ने कभी सोचा नहीं रहा होगा कि एक दिन ऐसा भी आएगा, जब हमें घरों से बाहर निकलने में भी डर लगेगा। इस कोरोना काल में लोग अपने ही लोगों से नहीं मिल सकते हैं,और इस दुख की घड़ी में हम किसी का दुख बांटने के लिए उसके साथ भी नहीं बैठ सकते हैं। ऐसे में हमें इस कोरोना से सीख लेने की जरूरत है और भविष्य में उसका पालन भी करने की जरूरत है।

समझें परिवार का महत्व

इस कोरोना काल के समय में हर किसी ने परिवार के महत्व को समझा है, इसके पहले सिर्फ अपने कामों से मतलब रखने वाले लोग जब इसका हमारी की वजह से अपने घरों में बंद होने के लिए मजबूर हुए तब उन्हें परिवार में मौजूद हर शख्स की अहमियत पता चली। महामारी ने हमें सिखाया कि परिवार मौजूद हर एक व्यक्ति कितना महत्वपूर्ण है, और हमें वक्त निकालकर परिवार के साथ व्यतीत करना चाहिए क्योंकि जो खुशी परिवार के साथ समय व्यतीत करने में मिलती है वह और कहीं नहीं मिलती है।

किसी भी त्रासदी के लिए रहें तैयार

इस कोरोना काल ने हम सभी को किसी भी त्रासदी से लड़ने की सीख भी दी। अगर हम चाहें तो एक साथ मिलकर किसी भी मुसीबत का सामना कर सकते हैं और हमें तैयार रहना चाहिए कि फिर अगर कुछ ऐसी त्रासदी सामने आई है तो हम उसका सामना कर सकें।

गांवों में होना चाहिए बेहतर स्वास्थ्य

कोरोना काल की सबसे बड़ी सीख यही रही कि हमें शहरों की तरह ही गांवों पर भी ध्यान देने की जरूरत है, वहां भी शिक्षा और स्वास्थ्य जैसी सुविधाएं बेहतर होनी चाहिए,जब पूरे देश में कोरोनावायरस पहली लहर आई तब शहरों में कार्य करने वाला हर आदमी अपने गांव की ओर निकल पड़ा। ऐसे में हमें सीख लेनी चाहिए कि हम सभी को गांव में स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर करने का प्रयास करना चाहिए क्योंकि गांव में अगर यह बीमारी शहरों की तरह फैली तो उसे रोकना नामुमकिन है।

एक दूसरे के प्रति रखें मानवता

देश में फैले इस एक वायरस ने हमें यह तो जरूर ही सिखा दिया कि हम केवल पैसों से ही किसी की मदद नहीं कर सकते,हमें एक दूसरे के प्रति मानवता दिखानी पड़ेगी। जैसा इस कोरोना काल में बहुत से लोगों ने करके दिखाया। देश में ऐसी स्थिति आने पर हम सभी को एक साथ उसका डटकर मुकाबला करना चाहिए और अगर किसी को जरूरत हो तो उसकी मदद करने की कोशिश करनी चाहिए।

तकनीक पर ही निर्भर ना रहें हम

कोरोना काल ने हमें यह भी सिखाया कि हम कम चीजों के साथ भी जिंदा रह सकते हैं। किसी ने कभी सोचा नहीं रहा होगा कि अगर देश में चल रही ट्रेनें, उड़ रहे हवाई जहाज और दुकानें बंद हो जाएं तो जीवन कैसे चलेगा,लेकिन इस कोरोना काल में यह सब भी हुआ और हम सभी ने मिलकर इसका मुकाबला भी किया और हमने सीखा भी कि इन सब के बिना भी जीवन चल सकता है।

आगे बढ़कर करें लोगों की मदद

इस महामारी ने हमें यह भी सिखा दिया कि हम ऐसी स्थिति में केवल सरकार के भरोसे नहीं रह सकते, हम सभी को आगे बढ़कर देश की मदद करनी चाहिए। चाहे वह किसी गरीब को भोजन कराना हो या किसी मरीज को अस्पताल तक पहुंचाना हो। देश के अलग-अलग समुदाय के लोगों ने आगे बढ़कर जिस तरह से महामारी के दौरान लोगों की मदद की वाह अतुलनीय है और हमें आगे भी ऐसे करते रहना होगा।

हालांकि इसमें कोई संदेह नहीं कि कोरोना महामारी ने जिस तरह से भारत में तबाही मचाई वह भयानक है लेकिन इस महामारी ने हम सभी को काफी सारी सीखे भी दीं, जो हमें सीख कर आगे बढ़ना चाहिए जिससे दोबारा ऐसी स्थिति उत्पन्न ना हो सके।

Leave a Reply

*

code